डेबिट कार्ड व क्रेडिट कार्ड से जुडी सम्पूर्ण जानकारी

हमारे देश मे 08 नवम्बर 2016 को नोटबंदी हुयी जिसके बाद लोगो का ध्यान online transaction करने पर गया | उससे पहले ज्यादातर लोगो को डेबिट कार्ड ,एटीएम कार्ड व् क्रेडिट कार्ड के बारे में जानकारी नही थी ,इस ब्लॉग मे आपको डेबिट कार्ड व क्रेडिट कार्ड से जुडी सम्पूर्ण जानकारी दी जाएगी |

जैसे-जैसे लोगो ने online transaction का उपयोग करना शुरू किया वैसे ही लोगो को डेबिट कार्ड की जरुरत काफी ज्यादा महसूस होने लगी जिस वजह से paytm,phonepe,google pe आदि तरह के वॉलेट मार्किट में आये और online transaction में सब्नसे ज्यादा योगदान देना शुरू कर दिया |क्यूंकि इन सब वॉलेट से transaction करने के लिए डेबिट कार्ड की जरुरत सबसे ज्यादा पड़ रही थी |

डेबिट का सीधा-साधा सा अर्थ है कि आप अपने पैसे का उपयोग कर रहे हैं, जो पैसा आपने अपने बैंक खाता मे जमा कर रखा है | डेबिट कार्ड बैंक द्वारा जारी किया गया एक प्लास्टिक कार्ड है, जो बैंक अकाउंट खाता धारक को सीधे उनके बैंक खाते से इलेक्ट्रॉनिक या ऑनलाइन रूप से भुगतान करने की अनुमति देता है। डेबिट कार्ड द्वारा लिंक किए गए बैंक खाते से बैंक खाता धारक ,ऑनलाइन या फिर किसी भी एटीएम मशीन की सहायता से पैसे निकाल सकता है  ।डेबिट कार्ड की सहायता से आप जितना भी पैसा एटीएम मशीन से निकालना चाहते है या फिर जितने का ख़रीदारी करना चाहते है उतना या उससे  ज़्यादा पैसा आपके बैंक खाते मे आवश्यक होना चाहये। कहनें का मतलब यह है कि यदि आपके बैंक खाते में पैसे नहीं हैं तो यह डेबिट कार्ड आपके किसी काम का नहीं है |डेबिट कार्ड व क्रेडिट कार्ड से जुडी सम्पूर्ण जानकारी

डेबिट कार्ड के फायदे

डेबिट कार्ड या एटीएम कार्ड का जो सबसे बड़ा फायदा है वो यह है की अब आपको बैंक जाने की जरुरत बहुत कम पड़ती है क्यूंकि आपका ज्यादातर सारा काम ऑनलाइन हो जाता है जैसे :-ऑनलाइन फीस ,टिकट बुकिंग ,शॉपिंग,स्कूल फीस आदि सभी तरह के काम आप डेबिट कार्ड की मदद से कर सकते है| और अगर आपको कैश रुपए की जरूरत भी पड़ जाये तो  बस आप नजदीकी एटीएम में जाकर इस कार्ड से आसानी से पैसा निकाल सकते है. डेबिट कार्ड का इतना फायदा है कि अब आपको कैश लेकर नहीं जाना पड़ता, बस दुकान पर जाइए और कार्ड स्वाइप कर दीजिए और पेमेंट हो जाती है. इस कार्ड से आप बैंक से जुड़ा हर काम कर सकते हो.
  • डेबिट कार्ड होने से आपको हर समय कॅश रखने की जरुरत नहीं होती है.
  • डेबिट कार्ड की मदद से आप नेट बैंकिंग का इस्तेमाल भी कर सकते है.
  • डेबिट कार्ड के द्वारा आप घर बैठे रिचार्ज, बुकिंग और बिलों का भुगतान कर सकते हैं.
  • डेबिट कार्ड के द्वारा आप बिना बैंक में जाए देश के किसी भी कोने से पैसे निकाल सकते हैं.
  • ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों प्रकार की खरीददारी आप डेबिट कार्ड के द्वारा कर सकते हैं.
  • डेबिट कार्ड का एक 4 अंकों का गुप्त पिन होता है, अगर आपका डेबिट कार्ड खो भी जाए तो बिना पिन के कोई भी आपके डेबिट कार्ड से पैसे नहीं निकाल सकता है.

डेबिट कार्ड के नुकसान 

आज के समय मे डेबिट कार्ड के फ़ायदों के साथ-साथ काफी तरह के नुकसान भी है | जैसे:-

  • अगर किसी हैकर के पास आपके डेबिट कार्ड की महत्वपूर्ण डिटेल (कार्ड नंबर, CVV, एक्सपायर डेट) है तो यह आपके लिये नुकसानदायक  हो सकता है ,क्यूंकि आपके बैंक खाते से पैसे चोरी होने का खतरा रहता है जिससे कोई भी हैकर आपके बैंक खाते को खाली कर सकता है |
  • आप डेबिट कार्ड के द्वारा किसी भी ATM से महीने में कुछ ही Transaction फ्री में कर सकते हैं. अगर आप बैंक के द्वारा निर्धारित की गयी संख्या से अधिक बार Transaction करते हैं तो बैंक आप पर अतिरिक्त शुल्क लगाता है.
  • आप बैंक से एक दिन में लाखों रूपये भी निकाल सकते है पर डेबिट कार्ड के द्वारा आप एक दिन में केवल 25 हजार रूपये निकाल सकते हैं.
  • कई बार सर्वर की समस्या के कारण भी ATM मशीन से पैसे नहीं निकलते हैं.

डेबिट कार्ड काम कैसे करता है

जब आप ATM मशीन से पैसे निकालने के लिए डेबिट कार्ड डालते हैं तो ATM मशीन आपके डेबिट कार्ड पर लगी चिप को Read करके आपके बैंक अकाउंट की सभी जानकारी प्राप्त कर लेती है, इसके बाद 4 अंकों का पिन या पासवर्ड दर्ज करने पर ATM मशीन से आपको तुरंत ही कैश मिल जाता है.जब आप डेबिट कार्ड को किसी दुकान या मॉल में स्वाइप करवाते हैं तोडेबिट कार्ड व क्रेडिट कार्ड से जुडी सम्पूर्ण जानकारी स्वाइप मशीन आपके डेबिट कार्ड के पीछे काले रंग की चुम्बकीय पट्टी को Read करके आपके बैंक अकाउंट की सभी जरुरी जानकारी प्राप्त करती है और जब आप 4 अंकों का पिन या पासवर्ड दर्ज करते हैं तो तब भुगतान की प्रक्रिया पूरी होती है.

डेबिट कार्ड में कुछ महत्वपूर्ण चीजें होती हैं जिनका इस्तेमाल पैसे लेंन–देन में किया जाता है.

  • डेबिट कार्ड नंबर
  • एक्सपायर डेट
  • CVV
  • चिप
  • काली मैग्नेटिक पट्टी
  • ATM पिन नंबर
  • OTP (One Time Password),बैंक खाते मे रजिस्टर मोबाइल नंबर पर ओटीपी

डेबिट कार्ड कैसे बनवाए 

डेबिट कार्ड को आप दो तरीको से बनवा सकते है 1.ऑनलाइन 2.ऑफलाइन  ,दोनों ही तरीको से डेबिट कार्ड को बनाना बहुत आसान है.

*ऑनलाइन डेबिट कार्ड बनवाने का तरीका 

  • ऑनलाइन डेबिट कार्ड बनाने के लिए सबसे पहले आपको सम्बंधित बैंक के ऑफिसियल पोर्टल में Log In करना होगा.
  • इसके बाद आपको ATM Card Service वाले विकल्प को सेलेक्ट करना है.
  • इसके बाद आप अपनी बेसिक डिटेल को फॉर्म मे भर दे, जैसे नाम, नंबर, ईमेल आदि.
  • इसके बाद आपको फॉर्म मे वह पता भरना है जिस पर आप अपना डेबिट कार्ड मंगवाना चाहते हैं.
  • सारी जानकारी को ध्यानपूर्वक भरकर आप फॉर्म को सबमिट कर दें.
  • 10 से 15 दिनों का इन्तजार करें,पोस्ट ऑफिस के द्वारा डेबिट कार्ड आपके द्वारा दिए गए पते पर पहुँच जाएगा.

*ऑफलाइन डेबिट कार्ड कैसे बनायें

  • ऑफलाइन डेबिट कार्ड को बनाने के लिए सबसे पहले आपको उस बैंक में जाना पड़ेगा जहाँ आपका बैंक खाता है.
  • इसके बाद बैंक से ATM डेबिट कार्ड बनवाने हेतु फॉर्म लें.
  • ATM डेबिट कार्ड फॉर्म में दी गयी सारी जानकारी को सही – सही भरकर बैंक में जमा कर दीजिये.
  • मात्र 7 से 15 दिनों के अन्दर आपका अपना डेबिट कार्ड आपके दिये गए पते पर पहुंच जाएगा.

क्रेडिट कार्ड क्या होता है

क्रेडिट का अर्थ है कि आप एक निश्चित समय या अवधि के लिए पैसे उधार ले रहे हैं या एक तरीके से कहे तो उधारी खाता. क्रेडिट कार्ड भी दिखने में डेबिट कार्ड जैसा ही होता है, और इसके माध्यम से भी आप ऑनलाइन लेनदेन कर सकते हैं। हालांकि डेबिट कार्ड के लिए बैंक में अकाउंट की आवश्यकता होती है, जबकि क्रेडिट कार्ड के लिए यह जरूरी नहीं होता है। क्रेडिट कार्ड कई फाइनैंस कंपनियां या बैंक द्वारा भी जारी किये जाते है। क्रेडिट कार्ड लेते वक्त इसमें आपकी क्रेडिट  चुकाने की क्षमता को ध्यान में रखते हुए एक लिमिट तय की जाती है, जो 10-20 हजार से लेकर लाखों में हो सकती है।क्रेडिट कार्ड के माध्यम से आप एक माह में जो भी खरीददारी करते हैं, उसका भुगतान महीने के अंत में या बैंक द्वारा बताई गई तारीख(जिसे साधारण शब्दों में Due Date कहा जाता है) तक करना होता है। यदि आप निर्धारित तारीख तक भुगतान नहीं करते है, तो बैंक द्वारा क्रेडिट कार्ड की क़िस्त जमा न करने की वजह से आपके ऊपर जुर्माना(Penalty) लगाया जाता है |इस कार्ड की मदद से कोई भी ग्राहक वस्तुओं या सेवाओं को खरीद सकते हैं और उसका भुगतान बाद में कर सकते हैं। बता दें कि इस कार्ड के जरिए आप एक सीमित दायरे तक, अपनी जरूरतों को पूरा कर सकते हैं। यहाँ तक कि विषम परिस्थिति आने पर इससे नकद भी निकाल सकते हैं।इस तरह, जिनके पास क्रेडिट कार्ड (Credit Card) होता है, वे बिना किसी खास परेशानी के बैंक बैलेंस न होने के बावजूद अपनी जरूरतों को पूरी कर सकते हैं। हालांकि, क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल हमेशा विषम से विषम परिस्थितियों में ही करनी चाहिए। नहीं तो इससे भविष्य में आपके लिए तनाव काफी बढ़ सकता है।

क्रेडिट कार्ड के फायदे

क्रेडिट कार्ड के अनेकों फायदे है जिसमे शॉपिंग कैशबैक , emergency fund मे सहायक,बिल भुगतान ,रिवार्ड पॉइंट, ईएमआई पर ख़रीदारी आदि काफी तरह के फायदे मिलते है |क्रेडिट कार्ड रिवॉर्ड पॉइंट और कॉम्प्लीमेंटरी लाभ और डिस्काउंट जैसे फायदे देने के साथ-साथ आपके बैंक बैलेंस में पैसे नहीं होने पर भी अधिक खर्च करने की सुविधा प्रदान करते हैं.

डेबिट और क्रेडिट कार्ड में अंतर 

  • डेबिट कार्ड से आप अपने खाते से ही रकम निकालते हैं, जबकि क्रेडिट कार्ड के माध्यम से आप वह राशि बैंक से उधार लेते हैं|
  • डेबिट कार्ड से निकाली गई राशि पर आपको कोई ब्याज नहीं देना होता, जबकि क्रेडिट कार्ड से निकाली गई राशि पर ब्याज देना होता है|
  • डेबिट कार्ड के आनलाइन ट्राजेक्शन की लिमिट आपके खाते में उपलब्ध राशि होती है जबकि क्रेडिट कार्ड की लिमिट आपके सेवा प्रदाता बैंक द्वारा तय की जाती है|
  • क्रेडिट कार्ड पूरी दुनिया में समान रूप से इस्तेमाल किए जाते हैं इसलिए यात्रा के दौरान यह अधिक उपयोगी होते हैं, जबकि डेबिट कार्ड सिर्फ आपके देश में ही स्वीकार्य होते हैं|
  • डेबिट कार्ड पर बैंक द्वारा लगने वाला सर्विस चार्ज सामान्य तौर पर क्रेडिट कार्ड से कहीं कम होता है|
  • डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के बीच मुख्य अंतर यह है की डेबिट कार्ड का उपयोग करने पर , राशि आपके चेकिंग अकाउंट से डेबिट की जाती है और जब आप क्रेडिट कार्ड का उपयोग करते है तो राशि आपकी प्री – अप्रूएड क्रेडिट लिमिट से डेबिट की जाती है न की आपके बैंक अकाउंट से की जाती है ।

FAQ:डेबिट कार्ड  क्रेडिट कार्ड से जुड़े सवाल-जवाब 

QUESTION:-डेबिट कार्ड का साइज़ क्या होता है ?

ANSWER:-Debit Card का Size 85.60 mm × 53.98 mm (3.370 in × 2.125 in) में प्लास्टिक का कार्ड होता है।

QUESTION:-डेबिट कार्ड पर कौन से जानकारी दर्ज होती है 

ANSWER:-डेबिट कार्ड पर 16 अंकों का एक नंबर छपा होता है. इन 16 डिजिट में आपके कार्ड की बेहद महत्वपूर्ण जानकारियां होती हैं. जब आप कोई भी ऑनलाइन पेमेंट करते हैं तो इन नंबरों के जरिए ही आपके बैंक अकाउंट नंबर, कार्ड की कंपनी की जानकारी मिलती है.डेबिट कार्ड पर छपे 16 डिजिट के पहले 6 अंक बैंक आइडेंटिफिकेशन नंबर’ होते हैं. इसके बाद के 10 अंको को  कार्ड होल्डर का यूनिक नंबर कहा जाता है.

QUESTION:-भारत में डेबिट कार्ड कब शुरू किया गया?

ANSWER:-भारत मे सबसे पहले वर्ष 1987 में डेबिट कार्ड का उपयोग किया गया ।

QUESTION:-भारत का पहला डेबिट कार्ड कौन सा है?

ANSWER:-Rupay Debit Card

QUESTION:-डेबिट कार्ड को और किस नाम से जाना जाता है?

ANSWER:-प्लास्टिक कार्ड ।

QUESTION:-डेबिट कार्ड से एक दिन में कितने पैसे निकाल सकते है?

ANSWER:-डेबिट कार्ड से एक दिन में ज्यादा से ज्यादा 25000 हजार रूपये निकाल सकते है |

QUESTION:-डेबिट कार्ड कितने दिन में बनता है?

ANSWER:-डेबिट कार्ड आवेदन करने के 12 से 15 दिन में जो आवेदन पत्र में पता भरा हुआ होता है उस पते पर आ जाता है |

QUESTION:-क्या एटीएम कार्ड और डेबिट कार्ड एक ही है?

ANSWER:-एटीएम कार्ड और डेबिट कार्ड लगभग एक जैसे ही है लेकिन सबसे बड़ा जो अंतर है वो यह है की आप  एटीएम कार्ड की मदद से सिर्फ एटीएम मशीन से कैश में रूपये निकाल सकते है जबकि डेबिट कार्ड के उपयोग से एटीएम मशीन से कैश रूपये निकालने के अलावा इस से बैंक खाता धारक किसी भी तरह की ऑनलाइन पेमेंट कर सकता है .

QUESTION:-क्रेडिट कार्ड की लिमिट क्या होती है?
ANSWER:-आमतौर पर आप एक क्रेडिट कार्ड पर ₹10,000 से लेकर लाखों रुपए तक की तक की क्रेडिट लिमिट प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन अधिक क्रेडिट लिमिट प्राप्त करने के लिए आपको बैंक द्वारा निर्धारित कुछ योगिता को धारित करना आवश्यक होता है। जैसे उच्च आय, अच्छा क्रेडिट स्कोर रोजगार की स्थिति आदि।
QUESTION:-क्रेडिट कार्ड बनवाने की उम्र कितनी है?
ANSWER:-क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करने के लिए व्यक्ति की आयु कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए। हालाँकि, चूंकि अधिकांश लोग 18 वर्ष की आयु तक कमाई शुरू नहीं करते हैं, अधिकांश बैंक आवेदक को 21 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद ही क्रेडिट कार्ड जारी करते हैं।

Leave a Comment