आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस AI

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस AI , यह दो शब्दों “आर्टिफिशियल” और “इंटेलिजेंस” से बना है, जिसका अर्थ है “मानव निर्मित सोच शक्ति। धरती पर इंसान को सबसे बुद्धिमान माना जाता है। यानी इंसानी बुद्धि किसी भी टास्क को Perform कर सकती है। वहीं जब मशीन किसी इंसानी काम को इंसानो की तरह सोच-समझ कर करने लगे तो वह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस  (Artificial Intelligence) कहलाती है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस AI
आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस AI

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) एक ऐसी तकनीक है इसके तहत कंप्यूटर, रोबोट या मशीन को इस तरह प्रोग्राम किया जाता है कि वह मनुष्य की तरह काम करने लगे।

यानि हम आसान भाषा में कह सकते हैं कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) में कंप्यूटर या मशीन द्वारा मानव के दिमाग की नकल करने की शक्ति होती है जिसमें सीखना, वस्तुओं को पहचानना, भाषा को समझना, रिएक्शन देना, समस्याओं को हल करने जैसे कार्य शामिल हैं।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) के उदाहरण(Example):-

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस ,भविष्य की टेक्नोलॉजी है जिसका प्रयोग दिनोंदिन अलग-अलग सेक्टर में बढ़ता जा रहा है ,Digital Virtual Assistant जैसे की Amazon का Alexa  और Apple का SIRI, Artificial Intelligence का बेहतरीन उदहारण है। Smart assistants जैसे की कमरा में प्रवेश करते  ही Bulb का जलना, हाथ से ताली बजाने के बाद अपने आप ही पंखे का चालू हो जाना।

और भी काफी तरह के सेक्टर या कंपनिया है जिनमे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) का प्रयोग दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है जैसे   Chat Gpt,Voice Search,Google Map ,Self-driving cars ,AI Robotics ,Gaming ,Security and Surveillance Manufacturing robots ,Smart assistants ,Healthcare Management ,Automated financial investing ,Virtual travel booking agent ,Social media monitoring ,Marketing Chatbots.

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की शुरुआत कैसे हुई :

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की शुरुआत 1950 के दशक में ही हो गई थी, लेकिन इसको 1980 के दशक में पहचान मिली। जापान ने सबसे पहले पहल की और 1981 में Fifth Generation नामक योजना की शुरुआत की थी। इसमें सुपर-कंप्यूटर के विकास के लिये 10-वर्षीय कार्यक्रम का Framework Launch किया गया था | बाद में ब्रिटेन ने इसके लिए एल्वी नाम का एक प्रोजेक्ट बनाया। यूरोपीय संघ के देशों ने भी एस्प्रिट नाम से एक कार्यक्रम की शुरुआत की थी। 1983 में कुछ निजी संस्थाओं ने मिलकर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर लागू होने वाली Advanced Technology जैसे-Very Large Scale Integrated  सर्किट का विकास करने के लिए एक संघ ‘माइक्रो-इलेक्ट्रॉनिक्स एण्ड कंप्यूटर टेक्नोलॉजी’ की स्थापना की।

Artificial Intelligence (AI)  के फायदे :

रोजगार में बदलाव को जन्म देगा Artificial Intelligence (AI),हर तरह की तकनीकी क्रांति रोजगार बदलाव को जन्म देती है। एआई आने के बाद कई तरह के जॉब खत्म हो जाएंगे। वहीं कई नए रोजगार की संभावनाएं भी बनेंगी। हालांकि, भविष्य में किस तरह की नई नौकरियां होंगी। उनकी कल्पना करना अभी थोड़ा मुश्किल है। हालांकि, इन तकनीकों के आने से एक प्रोडक्टिविटी बूम आएगा, जो कि समाज को और भी ज्यादा समृद्ध करने का काम करेगा। बायोलॉजी के क्षेत्र में डाटा के बड़े स्तर पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को प्रशिक्षित करके नए पैथोजन्स, ड्रग्स, वैक्सीन्स और दवाओं की खोज की जा सकती है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का बहुत बड़ा उपयोग कृषि क्षेत्र में है। इसके उपयोग से कृषि उपज में शानदार ढंग से वृद्धि लाई जा सकती है। एआई टूल्स खास जगह की Soil Testing और Weather pattrens का अंदाजा लगाकर किसानों को बता सकते हैं कि वहां पर कौन सी फसल को उगाना फायदेमंद रहेगा |

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस  का अगर सबसे ज्यादा प्रयोग अगर किसी फील्ड में हुआ है तो वो है सोशल मीडिया ,आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का सिर्फ एक छोटा सा Example है  कि आजकल, यह बहुत ही Important Role Play कर रहा है हमारी डेली लाइफ में, जरा सोचिए जब आप ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं, तो एआई सिस्टम आपके शॉपिंग के preference को analyze करता है और आपको उसी से Related products  दिखाता है ,मतलब ये कभी कभी आप अनुभव करेंगे कि मैंने यह मोबाइल फेसबुक पर देखा था उस पर क्लिक किया था, अब फ्लिपकार्ट खोल रहा हूं तो वहां भी हमें मोबाइल का विज्ञापन दिखाया जा रहा है ,अमेजॉन खोलता हूं वहां पर भी मोबाइल का विज्ञापन  ही दिखाया जा रहा है और यह सिलसिला यही तक नहीं रुकता, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस   आपकी हर पसंद को समझता है, जब आप Youtube पर वीडियो देखते हैं या फेसबुक पर वीडियो देखते हैं तो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस   आपके देखने के पैटर्न को एनालाइज करता है और आपको वही मतलब उसी टाइप की Videos Recommended करता है जिन्हें आप देखना चाहते करते हैं. आप कोई कॉमेडी वीडियो देख ले तो कुछ वक्त तक आपको उसी तरह की वीडियो स्क्रॉल करने पर मिलती रहेंगी.

Artificial Intelligence (AI) के नुकसान :

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आने के बाद झूठी तस्वीरों और डीपफेक वीडियोज का चलन काफी बढ़ा है। इसके कई गंभीर नतीजे समाज में देखने को मिल रहे हैं। हाल ही में एआई द्वारा डोनाल्ड ट्रंप के गिरफ्तार होने की तस्वीर को बनाया गया था। यह तस्वीर इंटरनेट पर काफी तेजी से वायरल हुई थी। यह तस्वीर देखने में बिल्कुल वास्तविक लग रही थी। ऐसे में सवाल उठा है कि एआई आने के बाद क्या झूठ और क्या सच है?  एक संभावना यह भी है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस हमारे नियंत्रण से बाहर हो जाएं, अगर किसी मशीन को लगता है कि उसके उद्देश्य इंसानों के उद्देश्यों से अलग है या इंसान हमारे लिए खतरा हैं तो ऐसे में क्या होगा? अगर मशीनें हमारी परवाह करना छोड़ दे फिर? ऐसे कई सवाल है ? जो समय के साथ-साथ गहरे होते जाएंगे की हम इन सवालों की पहचान हम कैसे करें और इस समस्या से कैसे निपटें?AI के आने के बाद सबसे ज्यादा जिस खतरे की बात हो रही है,  वो है इसका इंसानों से ज्यादा समझदार हो जाना. दुनिया के बड़े-बड़े दिग्गज लगातार AI के गलत इस्तेमाल को लेकर अलर्ट कर रहे हैं.

AI समाज के लिए बड़ा खतरा

जेफ्री हिंटन ने द न्यूयॉर्क टाइम्स को बताया कि AI यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस काफी खतरनाक है। उन्होंने कहा की एआई समाज और मानवता के लिए गहरा जोखिम उत्पन्न किया है। उनके मुताबिक एआई आने वाले टाइम में मनुष्यों से भी काफी तेज निकल जाएगा। बता दें, एआई को विकसित भी इन्होने किया है।

नौकरियों को होगा ज्‍यादा खतरा

शोधकर्ताओं के मुताबिक, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के बहुत ज्‍यादा इस्‍तेमाल से सबसे ज्‍यादा खतरा Teaching Sectors को होगा. इसके बाद Judiciary को भी इससे बड़ा जोखिम है. वहीं, जेनेटिक काउंसलर्स, फाइनेंशियल एग्‍जामिनर्स व कंसल्‍टेंट्स, टेलीमार्केटिंग सेक्‍टर, बजट एनालिस्‍ट, अकाउंटेंट्स, ऑडिटर्स मैनेजमेंट एनालिस्‍ट को भी बड़ा खतरा पैदा हो जाएगा. क्‍लीनिकल काउंसलर्स और परजेंसिंग एजेंट्स को भी एआई के ज्‍यादा इस्‍तेमाल से अपनी नौकरी गंवानी पड़ सकती है. इसके अलावा कई दूसरे सेक्‍टर्स में बड़ी तादाद में लोगों की नौकरी छिन सकती है.  सॉफ्टवेयर डेवलेपर्स की नौकरी को एआई से खतरा हो सकता है। दरअसल एआई इस सेक्टर में कम समय में ज्यादा तेजी से काम कर सकता है। एआई से गलतियों की गुंजाइश भी काफी कम है। ग्राफिक डिजाइनिंग के क्षेत्र में भी एआई से नौकरियां प्रभावित हो सकती हैं। एआई ग्राफिक डिजाइनिंग में काफी तेजी से और बेहतर काम करने में पूरी तरह से सक्षम है। इसके अलावा Legal and Account Service , फाइनेंस, मीडिया, मार्केट रिसर्च एंड एनालिसिस, एचआर रिक्रूटमेंट, टीचर्स, ट्रांसलेटर और कस्टमर सर्विस ऐसे क्षेत्र हैं जहां एआई की मार सबसे ज्यादा पड़ सकती है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, इन सेक्टरों में नौकरियां जाने की संभावना ज्यादा रहेगी।

अब Negative point की बात कर ही रहे हैं Artificial Intelligence (AI) एक और उदाहरण है ,ऑटोनॉमस वेपन ,जिसे हम Popularly Killer Robots  के नाम से जानते हैं, दरअसल होता क्या है यह Robots बिना किसी Human Intervention के काम करते हैं, और इसलिए इनकी सही और गलत Decision लेने की Capability नहीं होती है, यह रोबोट्स हमेशा सही टारगेट को आईडेंटिफाई नहीं कर पाते और ऐसी सिचुएशन में खुद ही कुछ wrong decision ले लेते हैं, जो कभी-कभी भयानक Consequences के साथ सामने आते हैं.

इसी बात को रजनीकांत वाली रोबोट मूवी में काफी अच्छे से दिखाया गया है, इसके अलावा द टर्मिनेटर मूवी में, जहां पर एक किलर रोबोट टाइम ट्रेवल करता है और इंसानों को मारना शुरू कर देता है,यह ऐसी मूवी हैं जिन्हे देखने के बाद पता चलता है की Artificial Intelligence (AI)  के साथ हमें बहुत सावधानी के साथ रहना पड़ेगा.

FAQ:-Artificial Intelligence (AI) सवाल-जवाब

Q1.आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कब बना?

वर्ष 1955 में जॉन मैकार्थी ने इसको बनाया और इसको Artificial Intelligence (AI) का नाम दिया| जॉन मैकार्थी एक अमेरिकी कंप्यूटर वैज्ञानिक थे।

Q2.एआई कितना खतरनाक है?

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की वजह से इंसान के लिए काम कम हो जाएंगे. इंसान की बजाय मशीनों को काम में लिया जाएगा जिसके कई नुकसान भी हो सकते हैं. मशीन स्वयं ही निर्णय लेने लगेंगी और अगर उस पर नियंत्रण नहीं किया गया तो वह मानव सभ्यता के लिए खतरनाक साबित हो सकता है.

Q3.आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) कितने प्रकार के होते हैं

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मुख्यतः तीन प्रकार के होते हैं पहला Weak AI, दूसरा Strong AI और तीसरा Super AI है.

Q4.आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI)  का उपयोग कहां किया जाता है?

पहले से ही, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग Machine learning, Medical, परिवहन, Robotics, Science, Education, Army, निगरानी, ​​Finance and Regulation, कृषि, मनोरंजन, Retail ग्राहक सेवा और Manufacturing आदि जगह किया जाता है।

Q5. AI एजेंट का मुख्य कार्य क्या है

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में, Agent एक ऐसी entity होती है जो सेंसर की मदद से अपने environment (वातावरण) को अच्छे तरीके से observe (निरीक्षण) करता है और इस निरीक्षण के आधार पर कार्य करता है

Q6.आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI)  के भविष्य में क्या संभावनाएँ हैं?

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI)  भविष्य में काफी ज्यादा संभावना रखता है जैसे Cyber Security, Healthcare, Medical, Transportation System आदि तरह के सेक्टर में | आने वाले समय में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस हमारे काम करने के तरीकों, यात्रा, स्वास्थ्य सेवाओं से लेकर बातचीत करने के ढंग को पूरी तरह से बदल के रख देगा। समूचे उद्योग AI के इर्द-गिर्द घूमेंगे।

 

 

Leave a Comment